buy Gabapentin for dogs online

तरनतारन के सिविल अस्पताल परिसर में नशीली गोलियों एवंम दवाईयां आसानी से उपलब्ध ?

Drugs are easily available in the Civil Hospital campus of Tarn Taran

 

तरनतारन के सिविल अस्पताल परिसर में शरेआम नशीली गोलियों एवंम नशीली दवाईयां आसानी से उपलब्ध हो रही है। जिला प्रशासन सहित तरनतारन के विधायक डा. धर्मबीर अग्निहोत्री तक को इस बात की जानकारी है। बार-बार प्रशासन से गुहार लगाने के बावजूद भी सिविल अस्पताल में नशा बेचने वाले इन तस्करों पर कोई कारवाई नही की जा रही। यह कहना  है तरनतारन के एसएमओ डा. निर्मल सिंह का। उन्होने यह बातें नगर कौंंसल कार्यालय तरनतारन में एसडीएम डा. अमनदीप कौर की उपस्थिती में कैमिस्ट ऐसोसिएशन की मीटिंग के दौरान की। एसएमओ ने यह भी कहा कि सिविल अस्पताल के परिसर में एक मिल्क बूथ है जहां से शरेआम नशे की गोलियां बिक रही है लेकिन नशा बेचने वालों का पकड़ना सिविल अस्पताल के कर्मचारियों का काम नही है। उन्हे पकड़ने के लिए जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन को बार-बार गुहार लगाई जाती है लेकिन कोई कारवाई नही हो रही। एसएमओ ने कहा कि इस बात की जानकारी जब उन्होने विधायक को दी तो विधायक ने उसी समय पुलिस को फोन कर इसे रोकने के आदेश दिए लेकिन यह मामला जस का तस बना हुआ है। एसएमओ का दावा था कि सिविल अस्पताल के भीतर खुले ड्रग एडिक्शन सैंटर से विशेषज्ञ डाक्टर की अनुमति के बिना किसी को भी दवाई नही दी जाती। इस मीटिंग के दौरान नगर कौंसल के उपाध्यक्ष सुरिंदर सिंह मल्ली ने कहा कि वह खुद इस बात के गवाह है कि सिविल अस्पताल के कैंपस के अंदर नशे के सामान की ब्रिकी होती है। वह हर रोज 4 से 5 चक्कर सिविल अस्पताल परिसर में लगाते है ताकि उनकी वार्ड का कोई भी युवक नशे की दलदल में फंस ना जाए। इस मीटिंग के दौरान कैमिस्ट ऐसोसिएशन के राज्य  उपाध्यक्ष बिमल अग्रवाल ने कहा कि जिला प्रशासन की तरफ से कैमिस्टो को चैकिंग के नाम पर जानबूझ कर परेशान किया जा रहा है। जबकि जिले के सभी कैमिस्ट अपनी नैतिक जिम्मेंदारी समझते हुए बिना डाक्टर की पर्ची से किसी को भी कोई दवा नही दे रहे और नशे की गोलियां देना तो दूर की बात है। उन्होने भी इस बात को गंभीरता से उठाया कि नशीली गोलियां व अन्य नशीले पदार्थ बेचने के लिए सरकारी व प्राईवेट रुप से खुले केन्द्र जिम्मेंदार है। कैमिस्ट ऐसोसिएशन ने जिला प्रशासन से मांग की कि इन नशा छुड्ाऊ केन्द्रों की कार्यप्रणाली पर नजर रखी जाए और यहां से जो दवाई लेकर नशा बेचता है उन पर शिंकजा कसा जाए। कवल अपनी पीठ थपथपाने के लिए जिला प्रशासन कैमिस्टों पर छापामारी कर उन्हे परेशान ना करे।

बातें नोट की है जल्द होगी कारवाई- एसडीएम

इस संबंध में तरनतारन की एसडीएम डा. अमनदीप कौर ने कहा कि जिला प्रशासन की तरफ से कैमिस्ट ऐसोसिएशन के साथ डैपो अभियान के अर्न्तगत मीटिंग रखी गई थी। इस मीटिंग में जिला प्रशासन से संबंधित अधिकारियों व कैमिस्टों ने एक-दूसरे पर प्रति आरोप लगाए है। यह सभी बातें नोट कर ली गई है व जल्द ही इनकी जांच कर कानून अनुसार कारवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Show Buttons
Hide Buttons